Wednesday, July 17, 2019

एडोल्फ हिटलर के बारे में 25 अनसुने तथ्य


इतिहास में मानवता के सबसे बड़े दुश्मन की जब भी बात की जाती है, एडोल्फ हिटलर का नाम सबसे ऊपर आता है I जर्मनी के इस क्रूर शासक को दूसरे विश्व युद्ध के लिए प्रत्यक्ष रूप से जिम्मेदार ठहराया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप भारी जानमाल का नुकसान हुआ I आंकड़ों के अनुसार दूसरे विश्व युद्ध के दौरान तक़रीबन 6 करोड़ लोगो ने अपनी जान गँवाई I हिटलर की ज़िन्दगी किसी पहेली से कम नहीं रही है I बात करते है, हिटलर की ज़िन्दगी से जुड़े कुछ प्रमुख तथ्यो की जो काफी कम लोग जानते है I
1. हिटलर यहूदियों से बहुत नफरत करता था , हिटलर के शासनकाल के दौरान यहूदियों पर जो जुल्म ढाये गए उसे सुनकर रूह काँप जाती है I उसके शासनकाल के दौरान तक़रीबन 60 लाख यहूदियों का कत्लेआम हुआ I

2. मानवतावाद का सबसे बड़ा दुश्मन हिटलर शुद्ध शाकाहारी और पशु प्रेमी था उसने पशुओ के संरक्षण के लिए सख्त कानून बनाया हुआ था I
3. क्रूरता की सभी सीमाएं लांघने वाला हिटलर बचपन में काफी शर्मीले और शांत स्वभाव का था I उसके शर्मीलेपन का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है, कि हिटलर जिस यहूदी लड़की से प्यार करता था उससे अपने प्यार का इज़हार कभी नहीं कर पाया I

 4. हिटलर एक शानदार वक्ता था और अपने भाषण खुद ही लिखता था और यही कारण है कि हिटलर जर्मनीवासियो का दिल जीतने में कामयाब रहा I
5. हिटलर शराब और सिगरेट से निषेध करता था I
6. हिटलर के माता-पिता चचेरे भाई बहन थे, हिटलर अपनी माता से जितना ज्यादा प्यार करता था और पिता से उतनी ही नफरत I


7. हिटलर आस्तिक था और बचपन में पादरी बनना चाहता था I
8. एक शांत और शर्मीले स्वभाव के बच्चे से लेकर क्रूर शासक बनने तक का सफर काफी उतर-चढाव भरा रहा I हिटलर के पिता काफी सख्त और क्रूर इंसान थे और इसका हिटलर की जिंदगी पर सबसे बड़ा प्रभाव पड़ा I
9. हिटलर भारतीयों से बहुत नफरत करता था लेकिन सुभाषचंद्र बोस और हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद से मिलने के बाद उसका नज़रिया बदल गया I

10. महान जर्मन वैज्ञानिक आइंस्टीन ने हिटलर की दमनकारी नीतियों के कारण जर्मनी छोड़, अमेरिका की नागरिकता ले लिया था I
11. आत्महत्या करने से एक दिन पहले हिटलर ने अपनी गर्लफ्रेंड इवा ब्राउन से शादी की थी, रूस द्वारा बर्लिन पर हमला करने के बाद हिटलर ने प्रेमिका सहित आत्महत्या कर लिया था I
12. हिटलर को 1939 में नोबेल के शांति पुरष्कार के लिए नामित किया गया था I
13. अमेरिका के 'टाइम' मैगज़ीन द्वारा 1938 में हिटलर को 'पर्सन ऑफ़ द ईयर ' बताया गया था I
14. हिटलर अपने पिता की तीसरी पत्नी का बेटा था I
15. 'एडोल्फ ' शब्द का मतलब खतरनाक भेड़िया होता है I
16. हिटलर ने जर्मन सेना की तरफ से पहला विश्व युद्ध लड़ा था, उस समय अमेरिकी सैनिको ने हिटलर को गिरफ्तार करने के बाद ज़िंदा छोड़ दिया था I
17. जर्मनी की 15 साल की एक यहूदी लड़की 'एनी फ़्रैंक ' ने एक डायरी लिखी थी I जिसमें हिटलर द्वारा यहूदियों के खिलाफ दमन का बड़े ही मार्मिक तरीके से वर्णन किया गया था I यह डायरी बाद में किताब के रूप में प्रकाशित हुई थी और जो बाद में बेस्ट सेलर बनी I
18. हिटलर को हमेशा अपनी मौत का डर रहता था I यहाँ तक कि वह खाना खाने से पहले उसे टेस्ट कराता था I
हिटलर मूलत ऑस्ट्रिया का निवासी था I
19. हिटलर की आत्मकथा 'मी केम्प ' 50 से ज्यादा भाषाओ में प्रकाशित हो चुकी है और दुनिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबो में से एक है I
20. हिटलर दूसरे विश्व युद्ध में निर्णायक रूप से जितने की स्थिति में था I लेकिन उसके सहयोगी जापान के नागासाकी और हिरोशिमा पर अमेरिका द्वारा परमाणु बम गिराने और रूस में मौसम ख़राब हो जाने की वजह से हिटलर युद्ध हार गया I
21. हिटलर द्वारा यहूदियों से नफरत का सबसे बड़ा कारण प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मन यहूदियों द्वारा जर्मनी का सहयोग करना नहीं था I हिटलर के अनुसार जर्मन यहूदि प्रथम विश्व युद्ध के दौरान मूकदर्शक बन जर्मनी की हार देखते रहे I
22. हिटलर और चार्ली चैपलिन में काफी समानताये थी जैसे कि दोनों की मूंछे एक सामान , दोनों के जन्म का साल एक ही था, यहाँ तक कि दोनों के जन्म में सिर्फ 4 दिन का अंतर था I
23. बचपन में कम बोलने वाला और शर्मीले स्वभाव का हिटलर को दुनिया के बेहतरीन वक्ताओं में से एक माना जाता है, उसमे भीड़ को आकर्षित करने की अदभुत क्षमता थी I
24. हिटलर के जर्मनी में उदय का सबसे बड़ा कारण प्रथम विश्व युद्ध में जर्मनी की शर्मनाक हार, जर्मनी में भ्रस्टाचार, राष्ट्रवाद का आभाव था I
25. हिटलर मानता था कि आर्य दुनिया में सबसे श्रेष्ठ है और उनका जन्म दुनिया पर शासन करने के लिए ही हुआ है I इसी मान्यता के चलते हिटलर ने आर्यन सभ्यता के प्रतीक स्वास्तिक को अपनी पार्टी और नाज़ी आंदोलन का प्रतीक चिन्ह बनाया I

Thursday, July 4, 2019

लाल कृष्ण आडवाणी- राजनीतिक सफ़र

भारतीय जनता पार्टी के लौह पुरुष कहे जाने वाले और भाजपा के संस्थापक सदस्यों में से, एक लाल कृष्ण आडवाणी का नाम किसी पहचान का मोहताज नहीं I भाजपा को 2 सदस्य से शिखर तक पहुँचाने में लाल कृष्ण आडवाणी  का बहुत बड़ी भूमिका रही I अटल बिहारी वाजपेयी के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर आडवाणी ने भाजपा को देश के कोने-कोने तक पहुँचाया I आइये नज़र डालते है लाल कृष्ण आडवाणी के 6 दशक से ज़्यादा के राजनीतिक सफर पर I
1927- 8, नवंबर, को कराची (पाकिस्तान) में एक हिन्दू सिंधी परिवार में जन्मे I
1951- श्यामा प्रसाद मुख़र्जी द्वारा गठित भारतीय जनसंघ के सदस्य बने I
1957- राजस्थान में जनसंघ के महासचिव एस. एस. भंडारी के सचिव बने I
1966 - जनसंघ के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य बने I
1970 - दिल्ली से राज्य सभा सदस्य चुने गए I
1973 - जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए I
1976 - गुजरात से राज्य सभा के सदस्य चुने गए I
1977 - जनता पार्टी के महासचिव चुने गए I
1977 - मोरारजी देसाई के नेतृत्व में पहले गैर कांग्रेसी सरकार में सुचना और प्रसारण मंत्री बने I
1980- जनता पार्टी से अलग होकर जनसंघ के पुराने सदस्यों ने भाजपा का गठन किया और आडवाणी भाजपा के संस्थापक सदस्य बने I
1980- भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव चुने गए I
1982 - मध्य प्रदेश से राज्य सभा  चुने गए I
1986 - मध्य प्रदेश से राज्य सभा  चुने गए I
1986 - भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए I
1989 - नई दिल्ली लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी के रूप में जीत दर्ज की I
1989 - लोकसभा में विपक्ष के नेता चुने गए I
1991 - गुजरात के सोमनाथ से देशव्यापी रथ यात्रा निकाली I भाजपा को जन-जन पहुंचाने का श्रेय इसी रथ यात्रा को दिया जाता है I
1991- लोकसभा में विपक्ष के नेता चुने गए I
1991 - नई दिल्ली सीट से लोकसभा का चुनाव जीता I
1993- भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए I
1996 - गाँधीनगर से लोकसभा के लिए चुने गए I
1996 - अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में बनी सरकार में गृह मंत्री बने I
1998 - गाँधीनगर से लोकसभा के लिए चुने गए I
1998 - अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में बनी सरकार में गृह मंत्री बने I
1999 - गाँधीनगर से लोकसभा के लिए चुने गए I
1999 - अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में बनी सरकार में गृह मंत्री बने I
2002 - भारत के उप प्रधानमंत्री बने I
2004 - गाँधीनगर से लोकसभा के लिए चुने गए I
2004 - लोकसभा में विपक्ष के नेता चुने गए I
2009 - गाँधीनगर से लोकसभा के लिए चुने गए I
2014- भाजपा के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य बने I
2014 - गाँधीनगर से लोकसभा के लिए चुने गए I
2018 - भारत के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'पदम् विभूषण ' से सम्मानित किये गए I