Personality

लाल कृष्ण आडवाणी- राजनीतिक सफ़र 

भारतीय जनता पार्टी के लौह पुरुष कहे जाने वाले और भाजपा के संस्थापक सदस्यों में से, एक लाल कृष्ण आडवाणी का नाम किसी पहचान का मोहताज नहीं I भाजपा को 2 सदस्य से शिखर तक पहुँचाने में लाल कृष्ण आडवाणी  का बहुत बड़ी भूमिका रही I अटल बिहारी वाजपेयी के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर आडवाणी ने भाजपा को देश के कोने-कोने तक पहुँचाया I आइये नज़र डालते है लाल कृष्ण आडवाणी के 6 दशक से ज़्यादा के राजनीतिक सफर पर I  जारी रखे---

अटल बिहारी बाजपेयी- राजनीतिक सफ़रनामा

अटल बिहारी बाजपेयी एक दूरदर्शी राजनेता थे, जिन्हे भारतीय राजनीति में मूल्य आधारित राजनीति और ईमानदारी के लिए जाना जाता है I तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी बाजपेयी की गिनती भारत के उन गिने- चुने राजनेताओ में किया जाता है, जिन्होंने अपनी निर्णय क्षमता और दूरदर्शिता से भारत को नई ऊचाइयों पर पहुँचाया I अपने 50 साल से ज्यादा के राजनीतिक करियर में अटलजी ने कई संवैधानिक और राजनीतिक पदों को ग्रहण किया I आइये नज़र डालते है उनकी राजनीतिक यात्रा पर I जारी रखे ...

आचार्य रजनीश उर्फ़ ओशो 

चंद्रमोहन जैन उर्फ़ आचार्य रजनीश उर्फ़ ओशो एक दार्शनिक और चिंतक जिन्हे उनके भक्त भगवान ओशो भी बुलाते है I ओशो को एक विद्रोही चिंतक भी कहा जाता है जिनका विवादों से गहरा नाता रहा I ओशो जब भी कुछ बोलते विवाद उठना लाजमी था, क्योकि ओशो की बाते सरकार, समाज और धर्म के खिलाफ होती थी I ओशो कितने विद्रोह थे इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है, कि 21 देशो ने ओशो के प्रवेश को प्रतिबंधित कर रखा था I जारी रखे --

लाल बहादुर शास्त्री - भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष

लाल  बहादुर शास्त्री एक ऐसा नाम जिसे सुनकर हर एक भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है I एक ऐसा राजनेता जिसने ईमानदारी, सादगी, त्याग और बहादुरी की ऐसी मिसाल पेश की जिसका कोई जवाब नहीं I एक  गरीब परिवार से प्रधानमंत्री बनने तक का सफर इतना आसान नहीं था I जारी रखे.....

जयप्रकाश नारायण- भारतीय राजनीति के किंग मेकर

भारतीय राजनीति में  कुछ नेता ऐसे हुए जिन्होंने सत्ता के शिखर को छुआ और कुछ ऐसे जिन्होंने उन्हें सत्ता के शिखर तक पहुंचाया I जयप्रकाश नारायण का भी नाम उन नेताओ में आता है, जिन्होंने किंग मेकर बनकर मोरार जी देसाई के नेतृत्व 1977 में पहली गैर-कांग्रेसी सरकार बनाई I जयप्रकाश नारायण को भारतीय राजनीति में त्याग और समर्पण के लिए याद किया जाता है I जयप्रकाश नारायण का नाम लेते ही एक ऐसे मज़बूत व्यक्तित्व का चेहरा उभर के सामने आता है, जिसने अपनी जिद्द से कांग्रेस के अभेद माने जाने वाले सिंहासन को जड़ से हिला दिया और सत्ता से कांग्रेस को उखाड़ फेंका I जारी रखे...

किशोर कुमार- मिलेनियम सिंगर


भारतीय सिनेमा के शिखर पुरुष किशोर का जन्म मध्य प्रदेश के खंडवा में 4 अगस्त,1929 को एक बंगाली परिवार में हुआ था I इनके पिता कुंजलाल गांगुली एक वकील और माता गौरी देवी गृहणी थी I किशोर कुमार के बचपन का नाम आभाष कुमार गांगुली था और किशोर कुमार अपने चार भाई-बहनो अशोक कुमार, अनूप कुमार, गीता देवी में सबसे छोटे थे I अशोक कुमार भी भारतीय सिनेमा में बहुत बड़े नाम है और इन्हे भारतीय सिनेमा के लिए सर्वोच्च सम्मान 'दादा साहब फ़ालके ' दिया जा चूका है, दूसरे भाई अनूप कुमार ने भी कुछ फिल्मो में अभिनय किया I किशोर कुमार का प्रारंभिक जीवन खंडवा में ही बीता किशोर कुमार की शिक्षा-दीक्षा भी खंडवा से ही हुई I जारी रखे --- 

मनोहर पर्रिकर- स्वच्छ छवि और मज़बूत व्यक्तित्व के राजनेता

एक स्वच्छ छवि और मज़बूत राजनेता की पहचान रखने वाले गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का 17 मार्च 2019 को 63 वर्ष की उम्र में निधन हो गया I मनोहर पर्रिकर एक साल से पैंक्रियाटिक कैंसर से जूझ रहे थे और अंत में ज़िन्दगी की जंग हर गए I मैंने अपनी जिंदगी में इतने सोच रखने वाला इंसान नहीं देखा I इतनी गंभीर बीमारी के बावजूद लगातार काम करते रहे यहाँ तक कि जब वह अस्पताल में भर्ती थे, तब भी लगातार बैठके करते रहे I जारी रखे .... 

भारतीय जिन्हे नोबेल प्राइज मिला 


नोबेल फाउंडेशन द्वारा दिया जाने वाला यह सम्मान दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित सम्मान है, जोकि महान
वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में दिया जाता है I 1901 से दिया जाने वाला यह सम्मान 6 क्षेत्रो भौतिकी, रसायन, चिकित्सा, साहित्य, शांति और अर्थशास्त्र  में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाता है I जारी रखे .....
मदन मोहन मालवीय
" जो व्यक्ति अपनी निंदा सुन लेता है वह सारे जगत पर विजय प्राप्त कर सकता है " I                                                   - मदन मोहन मालवीय 
संक्षिप्त परिचय:जन्म : 25  दिसंबर , 1861 (प्रयाग ) भारत मृत्यु: 12 नवंबर, 1946 (प्रयाग) भारत माता-पिता : पंडित बैजनाथ मालवीय, मूना देवी शिक्षा : कलकत्ता विश्वविद्यालय, प्रयाग  विश्वविद्यालयकार्यक्षेत्र : शिक्षा, धर्म, राजनिति, पत्रकारिता, स्वंतंत्रता संग्राम, वकालत सम्मान: भारत रत्न ( मरणोपरांत )प्रारंभिक जीवन :पंडित मदन मोहन मालवीय का जन्म उत्तर प्रदेश के प्रयाग में 18 दिसंबर 1861 को एक धार्मिक ब्राह्मण परिवार में हुआ था I  जारी रखे....

No comments:

Post a Comment